Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

प्रयागराज एक्सप्रेस - जो भी हो तुम खुदा की कसम; लाजवाब हो

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sun Jul 12 16:19:40 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by Rhythms of Rail

Page#    Showing 1 to 5 of 627 news entries  next>>
Jul 02 (23:55) एनसीआर जोन में चलने वाली 14 ट्रेनें होंगी इलेक्ट्रिक इंजन से लैस (www.amarujala.com)
IR Affairs
NCR/North Central
0 Followers
25071 views

News Entry# 412944  Blog Entry# 4661301   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
प्रयागराज। उत्तर मध्य रेलवे जोन में चलने वाली 14 जोड़ी ट्रेनें शीघ्र ही इलेक्ट्रिक इंजन से लैस हो जाएंगी। इन 14 ट्रेनों में प्रयागराज जंक्शन से चित्रकूट की ओर जाने वाली कानपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस भी शामिल है। सिंगरौली से टनकपुर जाने वाली त्रिवेणी एक्सप्रेस भी अब प्रयागराज तक इलेक्ट्रिक इंजन से लैस होकर ही आएगी। इन ट्रेनों का रेलवे अब इलेक्ट्रिक इंजन के साथ ही संचालन करेगा । हालांकि अभी देशभर में 100 जोड़ी ट्रेनों का ही संचालन रेलवे कर रहा है लेकिन उम्मीद है कि आने वाले दिनों में यह ट्रेनें जब भी चलेंगी उनमें इलेक्ट्रिक इंजन ही रहेगा । दरअसल एनसीआर में चलने वाली तमाम ट्रेनें अभी डीजल इंजन से ही चल रही हैं क्योंकि यह ट्रेनें जिन स्टेशनों से संचालित हो रही हैं वहां संबंधित रूट पर विद्युतीकरण नहीं था। बीते कुछ माह के दौरान रेलवे द्वारा रेल विद्युतीकरण पर लगातार काम किया जा रहा है। तमाम रेलखंड...
more...
का रेलवे विद्युतीकरण भी बीते कुछ माह के दौरान किया। अब रेलवे विद्युतीकरण के बाद संबंधित रूट पर चलने वाली ट्रेनों मैं इलेक्ट्रिक इंजन लगाने जा रहा है। जिन ट्रेनों में इलेक्ट्रिक इंजन लगाया जाना है उसमें दोनों ओर से त्रिवेणी एक्सप्रेस, नई दिल्ली- दरभंगा, नई दिल्ली -जयनगर गरीब रथ, लोकमान्य तिलक- दरभंगा पवन एक्सप्रेस, आनंद विहार -जयनगर एक्सप्रेस, लोकमान्य तिलक -जयनगर, मैसूर- दरभंगा एक्सप्रेस, पुणे -दरभंगा एक्सप्रेस, अहमदाबाद -दरभंगा एक्सप्रेस, कानपुर -प्रतापगढ़ एक्सप्रेस , लोकमान्य तिलक -प्रतापगढ़, भोपाल -प्रतापगढ़ एक्सप्रेस, चित्रकूट -प्रयागराज कानपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस, चित्रकूट- कानपुर एक्सप्रेस शामिल है।विज्ञापन.social-poll {margin:0px auto;width:300px;} .social-poll .poll-wrapper {box-sizing: border-box;}

Rail News
16755 views
Jul 03 (13:19)
sanjay07   663 blog posts
Re# 4661301-1            Tags   Past Edits
Good News

Rail News
13075 views
Jul 03 (15:51)
Heerendra Yadav~   552 blog posts
Re# 4661301-2            Tags   Past Edits
are waah lko se pratapgarh tak bhi e loco chalenge..
bhopal pratapgarh me bhopal se hi dloco aata hai abhi tak..
pratapgarh intercity ko kya milega cnb wap4 ya wag7
Jun 24 (22:51) Indian Railways की एक और बड़ी पहल, कोरोना संकट में खाली नहीं बैठेंगे मजदूर; अब रेलवे देगा काम (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
WCR/West Central
0 Followers
20849 views

News Entry# 412330  Blog Entry# 4656548   
  Past Edits
Jun 24 2020 (22:51)
Station Tag: Singrauli/SGRL added by Rhythms of Rail^~/100643

Jun 24 2020 (22:51)
Station Tag: Bina Junction/BINA added by Rhythms of Rail^~/100643

Jun 24 2020 (22:51)
Station Tag: Katni Junction/KTE added by Rhythms of Rail^~/100643

Jun 24 2020 (22:51)
Station Tag: Jabalpur Junction/JBP added by Rhythms of Rail^~/100643
Select Language
अतुल शुक्ला, जबलपुर। लॉकडाउन में महानगरों व शहरों से काम छोड़कर अपने गांव आए मजदूरों को अब काम मिलने में परेशानी नहीं होगी। मजदूर अब घर पर नहीं बैठेंगे। रेलवे ने निर्णय लिया है कि केंद्र सरकार की बहुचर्चित महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजना (मनरेगा) के तहत वह इन मजदूरों को काम देगा। रेलवे ने इसकी शुरआत भी कर दी है। रेलवे इनसे ग्रामीण और शहर के रेलवे स्टेशन के निर्माण कार्य से लेकर लेवल क्रॉसिंग, पटरियों के आसपास की सफाई, मिट्टी-गिट्टी की भराई, सफाई और पौधरोपण जैसे काम कराएगा। वर्तमान में रेलवे को भी अपनी अधूरी परियोजनाओं को पूरा करने के लिए मजदूरों की कमी हो रही है। इसे मनरेगा के जरिये वह दूर करेगा। रेलवे ने
...
more...
स्पष्ट किया है कि ट्रेन, पटरी और स्टेशन की संरक्षा से जुड़े सभी कामों को वह अपने अनुभवी कर्मचारी और मशीनों के माध्यम से ही पूरा कराएगा, लेकिन इन कामों से जुड़े अन्य छोटे-छोटे कामों को वह मनरेगा के जरिये मजदूरों से भी करा सकता है। दरअसल, रेलवे की प्राथमिकता में संरक्षा सबसे महत्वपूर्ण कार्य है, जिसे अब तक वह अपने रनिंग स्टाफ से ही कराता है। इसके अलावा रेलवे के पास संरक्षा के कामों के लिए आधुनिक मशीनें भी मौजूद हैं। छत्तीसगढ़ में बम धमाकों की गूंज के बीच नक्सलगढ़ के बच्चों ने फैलाया शिक्षा का उजियारा यह भी पढ़ें राज्य और जिला प्रशासन को दी जानकारी   पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर, भोपाल और कोटा रेल मंडल की सीमा में चल रही परियोजनाओं और अन्य कामों की जानकारी राज्य और जिला प्रशासन को दे दी गई है। अब प्रशासन इन परियोजनाओं के कार्य स्थल के आसपास रहने वाले मजदूरों की जानकारी एकत्रित कर रेलवे की देगा। इसमें मजदूरों को कुशल, अ‌र्द्धकुशल और अकुशल श्रेणी में बांटकर रखा जाएगा, ताकि रेलवे अपने कार्य के अनुरूप इन्हें काम दे सके। 24 घंटों में रिकॉर्ड दो लाख से अधिक की जांच, 15,968 मामले मिले, 465 लोगों की मौत यह भी पढ़ें भुगतान मनरेगा से होगा रेलवे में मनरेगा के तहत जो मजदूर काम करेंगे उनका पारिश्रमिक मनरेगा खाते से ही केंद्र सरकार द्वारा दिया जाएगा। इसका भुगतान रेलवे नहीं करेगा। रेल मंत्री का सभी जोन को निर्देश रेल मंत्री पीयूष गोयल ने देशभर के सभी रेल जोन के महाप्रबंधकों की बैठक कर निर्देश दिया है कि जोन अपनी सीमा में चल रहे कार्यो को मनरेगा के तहत कराएं। इसके लिए वह राज्य सरकार और जिला प्रशासन के साथ समन्वय करें। यह निर्देश मिलने के बाद पश्चिम मध्य रेलवे ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। पश्चिम मध्य रेलवे के निर्माण और इंजीनिय¨रग विभाग के आलाधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। Sushant Singh Rajput की मौत हत्या या आत्महत्या, मुख्य पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया असली सच यह भी पढ़ें पौने पांच करोड़ से ज्यादा ने मनरेगा में मांगा काम केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय के नए आंकड़ों के मुताबिक मनरेगा के तहत तकरीबन साढ़े तीन करोड़ परिवार के लगभग चार करोड़ 89 लाख लोगों ने मई माह में काम मांगा है। यह अब तक के रिकॉर्ड में सर्वाधिक है। इसकी वजह है कि कोरोना के कारण बड़ी संख्या में महानगर और अन्य शहरों से मजदूरों ने पलायन कर लिया है। वे अपने गांव पहंुच गए हैं। छत्तीसगढ़ में 15 बीएसएस जवान कोरोना पॉजिटिव, संक्रमण के मामले को लेकर मचा हड़कंप यह भी पढ़ें ये काम शुरू अभी पश्चिम-मध्य रेलवे के जबलपुर-कटनी, कटनी-सिंगरौली और कटनी- बीना के बीच काम शुरू हो गया है। पश्चिम मध्य रेलवे के एजीएम शोभन चौधरी ने बताया कि पश्चिम मध्य रेलवे ने मनरेगा के तहत काम करना शुरू कर दिया है। इसमें जबलपुर, भोपाल और कोटा तीनों मंडल काम कर रहे हंै। रेलवे, राज्य और जिला प्रशासन ने साथ बैठक कर पूरी प्रक्रिया तैयार की है। Posted By: Dhyanendra Singhडाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस .interstitialBox{width:100%; position: relative; text-align: center; clear: both;}
अतुल शुक्ला, जबलपुर। लॉकडाउन में महानगरों व शहरों से काम छोड़कर अपने गांव आए मजदूरों को अब काम मिलने में परेशानी नहीं होगी। मजदूर अब घर पर नहीं बैठेंगे। रेलवे ने निर्णय लिया है कि केंद्र सरकार की बहुचर्चित महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजना (मनरेगा) के तहत वह इन मजदूरों को काम देगा। रेलवे ने इसकी शुरआत भी कर दी है। रेलवे इनसे ग्रामीण और शहर के रेलवे स्टेशन के निर्माण कार्य से लेकर लेवल क्रॉसिंग, पटरियों के आसपास की सफाई, मिट्टी-गिट्टी की भराई, सफाई और पौधरोपण जैसे काम कराएगा। वर्तमान में रेलवे को भी अपनी अधूरी परियोजनाओं को पूरा करने के लिए मजदूरों की कमी हो रही है। इसे मनरेगा के जरिये वह दूर करेगा।
रेलवे ने स्पष्ट किया है कि ट्रेन, पटरी और स्टेशन की संरक्षा से जुड़े सभी कामों को वह अपने अनुभवी कर्मचारी और मशीनों के माध्यम से ही पूरा कराएगा, लेकिन इन कामों से जुड़े अन्य छोटे-छोटे कामों को वह मनरेगा के जरिये मजदूरों से भी करा सकता है। दरअसल, रेलवे की प्राथमिकता में संरक्षा सबसे महत्वपूर्ण कार्य है, जिसे अब तक वह अपने रनिंग स्टाफ से ही कराता है। इसके अलावा रेलवे के पास संरक्षा के कामों के लिए आधुनिक मशीनें भी मौजूद हैं।

राज्य और जिला प्रशासन को दी जानकारी  
पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर, भोपाल और कोटा रेल मंडल की सीमा में चल रही परियोजनाओं और अन्य कामों की जानकारी राज्य और जिला प्रशासन को दे दी गई है। अब प्रशासन इन परियोजनाओं के कार्य स्थल के आसपास रहने वाले मजदूरों की जानकारी एकत्रित कर रेलवे की देगा। इसमें मजदूरों को कुशल, अ‌र्द्धकुशल और अकुशल श्रेणी में बांटकर रखा जाएगा, ताकि रेलवे अपने कार्य के अनुरूप इन्हें काम दे सके।

भुगतान मनरेगा से होगा
रेलवे में मनरेगा के तहत जो मजदूर काम करेंगे उनका पारिश्रमिक मनरेगा खाते से ही केंद्र सरकार द्वारा दिया जाएगा। इसका भुगतान रेलवे नहीं करेगा।
रेल मंत्री का सभी जोन को निर्देश
रेल मंत्री पीयूष गोयल ने देशभर के सभी रेल जोन के महाप्रबंधकों की बैठक कर निर्देश दिया है कि जोन अपनी सीमा में चल रहे कार्यो को मनरेगा के तहत कराएं। इसके लिए वह राज्य सरकार और जिला प्रशासन के साथ समन्वय करें। यह निर्देश मिलने के बाद पश्चिम मध्य रेलवे ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। पश्चिम मध्य रेलवे के निर्माण और इंजीनिय¨रग विभाग के आलाधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है।

पौने पांच करोड़ से ज्यादा ने मनरेगा में मांगा काम
केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय के नए आंकड़ों के मुताबिक मनरेगा के तहत तकरीबन साढ़े तीन करोड़ परिवार के लगभग चार करोड़ 89 लाख लोगों ने मई माह में काम मांगा है। यह अब तक के रिकॉर्ड में सर्वाधिक है। इसकी वजह है कि कोरोना के कारण बड़ी संख्या में महानगर और अन्य शहरों से मजदूरों ने पलायन कर लिया है। वे अपने गांव पहंुच गए हैं।

ये काम शुरू
अभी पश्चिम-मध्य रेलवे के जबलपुर-कटनी, कटनी-सिंगरौली और कटनी- बीना के बीच काम शुरू हो गया है।
पश्चिम मध्य रेलवे के एजीएम शोभन चौधरी ने बताया कि पश्चिम मध्य रेलवे ने मनरेगा के तहत काम करना शुरू कर दिया है। इसमें जबलपुर, भोपाल और कोटा तीनों मंडल काम कर रहे हंै। रेलवे, राज्य और जिला प्रशासन ने साथ बैठक कर पूरी प्रक्रिया तैयार की है।
Posted By: Dhyanendra Singh
डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस
Copyright ©2020 Jagran Prakashan Limited.
Detected:4,56,764
Death:14,489
अनपरा। क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति (रेलवे बोर्ड) उत्तर मध्य रेलवे के सदस्य एस के गौतम ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने 200 किमी से अधिक दूरी तक यात्रा करने वाली पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस ट्रेन बनाकर चलाये जाने का फ़ैसला लिया है, जिसमें कटनी-चोपन पैसेंजर एवँ चोपन-कटनी फ़ास्ट पैसेंजर भी शामिल हैं। उम्मीद है कि जुलाई के प्रथम सप्ताह में इनका संचालन शुरू हो जाएगा। इसके अतिरिक्त गौतम ने इस रेल मार्ग पर कोविड-19 लॉकडाउन के कारण बंद कर दी गईं त्रिवेणी एक्सप्रेस, शक्तिपुंज एक्सप्रेस, सिंगरौली-निजामुद्दीन आदि सभी का संचालन किए जाने के लिए रेलवे बोर्ड को मांग पत्र भेजा है।विज्ञापन

Rail News
6902 views
Jun 24 (21:35)
sanjay07   663 blog posts
Re# 4656292-1            Tags   Past Edits
Good News
Jun 24 (14:56) पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाकर चलाए जाने का निर्णय (www.jagran.com)
IR Affairs
ECR/East Central
0 Followers
12080 views

News Entry# 412257  Blog Entry# 4656290   
  Past Edits
Jun 24 2020 (14:57)
Station Tag: Singrauli/SGRL added by Rhythms of Rail^~/100643

Jun 24 2020 (14:57)
Station Tag: Chopan/CPU added by Rhythms of Rail^~/100643

Jun 24 2020 (14:57)
Station Tag: Katni Junction/KTE added by Rhythms of Rail^~/100643
Select Language
जासं, अनपरा (सोनभद्र) : रेलवे बोर्ड ने 200 किमी से अधिक दूरी तक यात्रा करने वाली सभी पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाकर चलाए जाने का निर्णय लिया है। इसमें कटनी-चोपन पैसेंजर एवं चोपन-कटनी फास्ट पैसेंजर भी शामिल हैं। क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्श दात्री समिति (रेलवे बोर्ड) उत्तर मध्य रेलवे एसके गौतम ने कहा कि जुलाई के प्रथम सप्ताह में इनका संचालन शुरू हो सकता है। इस रेल मार्ग पर कोविड-19 लॉकडाउन के कारण बंद त्रिवेणी एक्सप्रेस, शक्तिपुंज एक्सप्रेस, सिगरौली-निजामुद्दीन आदि सभी ट्रेनों का संचालन शीघ्र शुरू किए जाने के लिए रेलवे बोर्ड को मांग पत्र भेजा गया है। अभी इस रेल मार्ग पर कोई यात्री ट्रेन नहीं चल रही है। इससे आम जनमानस को काफी परेशानियों का सामना करना पड़
...
more...
रहा है। यात्रियों को वाराणसी जाकर ट्रेन पकड़नी पड़ रही है, जो जर्जर सड़क मार्ग से पहुंचना बहुत ही मुश्किल हो गया है। जहरीले जंतु के काटने से तीन अचेत यह भी पढ़ें Posted By: Jagranडाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस .interstitialBox{width:100%; position: relative; text-align: center; clear: both;}
जासं, अनपरा (सोनभद्र) : रेलवे बोर्ड ने 200 किमी से अधिक दूरी तक यात्रा करने वाली सभी पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाकर चलाए जाने का निर्णय लिया है। इसमें कटनी-चोपन पैसेंजर एवं चोपन-कटनी फास्ट पैसेंजर भी शामिल हैं। क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्श दात्री समिति (रेलवे बोर्ड) उत्तर मध्य रेलवे एसके गौतम ने कहा कि जुलाई के प्रथम सप्ताह में इनका संचालन शुरू हो सकता है। इस रेल मार्ग पर कोविड-19 लॉकडाउन के कारण बंद त्रिवेणी एक्सप्रेस, शक्तिपुंज एक्सप्रेस, सिगरौली-निजामुद्दीन आदि सभी ट्रेनों का संचालन शीघ्र शुरू किए जाने के लिए रेलवे बोर्ड को मांग पत्र भेजा गया है। अभी इस रेल मार्ग पर कोई यात्री ट्रेन नहीं चल रही है। इससे आम जनमानस को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यात्रियों को वाराणसी जाकर ट्रेन पकड़नी पड़ रही है, जो जर्जर सड़क मार्ग से पहुंचना बहुत ही मुश्किल हो गया है।

Posted By: Jagran
डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस
Copyright ©2020 Jagran Prakashan Limited.
Detected:4,56,584
Death:14,483

Rail News
7321 views
Jun 24 (21:35)
sanjay07   663 blog posts
Re# 4656290-1            Tags   Past Edits
Good News
Jun 24 (14:53) अब एक्सप्रेस के रूप में चलेगी कटनी-चोपन पैसेंजर ट्रेन (www.patrika.com)
Commentary/Human Interest
WCR/West Central
0 Followers
11895 views

News Entry# 412256  Blog Entry# 4656288   
  Past Edits
Jun 24 2020 (14:53)
Station Tag: Chopan/CPU added by Rhythms of Rail^~/100643

Jun 24 2020 (14:53)
Station Tag: Singrauli/SGRL added by Rhythms of Rail^~/100643

Jun 24 2020 (14:53)
Station Tag: Katni Junction/KTE added by Rhythms of Rail^~/100643
सिंगरौली. कटनी से चोपन के बीच चलने वाली ट्रेन कटनी-चोपन पैसेंजर अब एक्सप्रेस के रूप में चलेगी। रेलवे बोर्ड ने 200 किलोमीटर से अधिक दूरी तय करने वाली ट्रेनों को एक्सप्रेस के रूप में बदलने का निर्णय लिया है। इस निर्णय का कटनी-चोपन एक्सप्रेस के यात्रियों को भी लाभ मिलेगा। इसी क्रम में लॉकडाउन के दौरान बंद ट्रेनों को भी जल्द शुरू करने की तैयारी है।क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति के सदस्य एसके गौतम के मुताबिक पूरी उम्मीद है कि जुलाई के पहले सप्ताह में कटनी-चोपन पैसेंजर ट्रेन एक्सप्रेस के रूप में चलना शुरू कर देगी। इसी तरह लॉकडाउन के कारण बंद कर दी गई ट्रेन त्रिवेणी एक्सप्रेस, शक्तिपुंज एक्सप्रेस व सिंगरौली-निजामुद्दीन का संचालन भी जल्द शुरू किए जाने की तैयारी है।इसके लिए रेलवे बोर्ड को मांग पत्र भेजा गया है। मांग पत्र के जरिए बोर्ड को यहां हो रही समस्याओं से अवगत कराया गया है। साथ ही मांग की गई...
more...
है कि ट्रेनों का संचालन ऐसी व्यवस्था के तहत शुरू किया जाए, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना संभव रहे।राज्यरानी एक्सप्रेस का संचालन वाया सिंगरौली हो इधर, क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति के सदस्य एसके गौतम ने भोपाल से दमोह तक प्रतिदिन चलने वाली राज्यरानी एक्सप्रेस को वाया सिंगरौली चलाए जाने की मांग की है। रेलवे मंत्रालय को लिखे पत्र में उन्होंने गुजारिश की है कि राज्यरानी एक्सप्रेस का रूट विस्तार वाराणसी तक किया जाए। यह ट्रेन वाया सिंगरौली-चोपन-चुनार वाराणसी तक जाए।रेल मंत्री पियूष गोयल को लिखे पत्र में गौतम ने उल्लेख किया है कि इस ट्रेन के रूट विस्तार से सिंगरौली से भोपाल व वाराणसी ट्रेन की मांग पूरी होगी। इससे एनसीएल व एनटीपीसी सहित अन्य उद्योगों व संस्थानों में काम करने वालों को बड़ी राहत मिलेगी। सांसद राज्यसभा रामशकल व सोनभद्र सांसद पकौड़ी लाल कोल ने भी इसके लिए सिफारिश की है।

Rail News
7154 views
Jun 24 (21:34)
sanjay07   663 blog posts
Re# 4656288-1            Tags   Past Edits
Good News
Page#    627 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy